A Robotic's Ballad गाथा

वो उत्कटता, वो अधीर दिल बिस्मिल कहाँ से लाएं?
दिन  रात मशीनों  में  रहकर हम स्माइल कहाँ से लाएं?
जो दिल खुशियों में रोये, ग़म में भी मुस्काता जाए 
....... रोबाट बनाने वाले हम ....वो दिल कहाँ से लाएँ ?

संचालन बुद्धी वाणी अनुभव हैं मशीनों में
सुंदर अवयव, आंखें, भी बेहतर हसीनों से
..... पर हुस्न हया  वो आंखों में झिलमिल कहाँ से लाएं
......उश्शाक़ फ़िदा  हो  ऐसा  काला तिल कहाँ से लाएं ?
....................... रोबाट बनाने वाले हम ....वो दिल कहाँ से लाएँ ?

इंसान जगह अब बदलेगा रोबो  का होगा कब्ज़ा
खामोश नस्ल, रूखी बातें, ना भाव ना ही जज़्बा
बर्बाद ज़माना करने और क़ाबिल कहाँ से लाएं?
इंसान  भला अब इससे भी आदिल कहाँ से लाएं?
....................... रोबाट बनाने वाले हम ...वो दिल कहाँ से लाएँ ?

माँ बाप बहन के रिश्तों में हासिल कहाँ से लाएं?
वो हाथ की रोटी, ममता का मानिल कहाँ से लाएं?
कविता शेरों की महफ़िल .... महफ़िल कहाँ से लाएं?
....................... रोबाट बनाने वाले हम वो दिल कहाँ से लाएँ ?
....................... रोबाट बनाने वाले हम वो दिल कहाँ से लाएँ ?

That Coffee

*‎ नर्म पड़ी थी धूप में सर्दी, गर्म पियाला ... कॉफी का तेरा मेरा सुख दुख बांटे, अपना रिश्ता... कॉफी का! * रूह, ख़ुदा, दिल-विल के मोड़ ...