बिजूका bijooka

22 12  12 22  2
सपने चिराग में रखते हैं
ताबीर आग़ में रखते हैं

अंगार की एक कहानी
छोटेसे दाग़ में रखते हैं

दौरे-जहां में एक बिजूका
परियों के बाग़ में रखते हैं

किस किस विकल्प से  क्या होगा
मेनू दिमाग़ में रखते हैं

हम तेल लंबी रातों के
गहरे चिराग़ में रखते हैं

That Coffee

*‎ नर्म पड़ी थी धूप में सर्दी, गर्म पियाला ... कॉफी का तेरा मेरा सुख दुख बांटे, अपना रिश्ता... कॉफी का! * रूह, ख़ुदा, दिल-विल के मोड़ ...