Dilemma | Tere jeevan ki soochi me

Dilemma
----------------
तेरे जीवन की सूची में
मैं अग्र या अंत? चलन ना कर
         मैं तेरा अवचेतन इश्क़ हूँ
         इश्क़ में इतने जतन ना कर

ये प्रेम की पूँजी बाँट बढे
सीमाएं इतनी सघन ना कर
         जो हक़ है तो, बिन मांगे दे
         मुझे भीख में दे, निर्धन ना कर

व्यवहारी हो और, इश्क़ भी हो
इतना भी संतुलन ना कर
        मैं हूँ तो हूँ, मैं नहीं तो नहीं
        मैं विकल्प नहीं, तू चयन ना कर.

तेरे अधिमान कि दुविधा गर
मैं हूँ तो तू चिंतन ना कर
       गर मैं ही नहीं, तो विकल्प नहीं
       आसान गणित है। कठिन ना कर!

   
अवचेतन -sub-conscious
विकल्प - option

चयन - choose, select
अधिमान - preferences

-------------------
April 8, 2014
Philadelphila
-------------------

That Coffee

*‎ नर्म पड़ी थी धूप में सर्दी, गर्म पियाला ... कॉफी का तेरा मेरा सुख दुख बांटे, अपना रिश्ता... कॉफी का! * रूह, ख़ुदा, दिल-विल के मोड़ ...